top of page

कृषि जीवन की यादें

Barley (jau).jpeg

फोटो साभार: पनमा ग्यत्सो

Salma.jpeg

फोटो साभार: पनमा ग्यत्सो

मेरा जन्म हांगो (11,500 फीट) में हुआ था जो किन्नौर की हंगरंग घाटी में एक सुदूर गांव है। मेरी उम्र 72 साल है और मैंने अपना जीवन इस गांव में एक कृषि-पशुपालक किसान के रूप में बिताया है। खेती-बाड़ी हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जब मैं पुरानी बातें याद करता हूँ तो मुझे एहसास होता है कि मेरी सबसे क़ीमती यादें खेतों और खाने से जुडी हुई हैं। मेरी सबसे पसंदीदा और ज्वलंत बचपन की यादें उस समय की हैं जब चुल्ली (खुबानी) का मौसम आता था। हमारे गांव में एक भी चुल्ली का पेड़ नहीं था, इसलिए हमारे बुजुर्ग पास के लियो गांव में जाते और हमारे लिए चुल्ली लाते। जब वे आते तो गाँव के सभी बच्चे अपने नन्हे हाथों में जितना हो सके चुल्ली हड़पने के लिए सार्वजनिक मैदान पर दौड़ पड़ते। बड़े हमें बेशकीमती चुल्ली तेल बनाने के लिए बीजों को बचाने के लिए कहते थे (750 मि.ली. 2000 रुपये/27 अमेरिकी डॉलर का मिलता है)। सर्दियों की धूप में महिलाएं भी दिन में एक-दूसरे के साथ चुल्ली का आनंद लेने के लिए समय निकालती थीं। चुल्ली का आनन्द लेना एक सांप्रदायिक मामला था ।

 

मेरी अन्य सबसे सुखद यादें फसल के बाद के उत्सवों और समारोहों की हैं। कुछ साल पहले तक, हंगो सर्दियों में बर्फ गिरने की वजह से बाहर की दुनिया से कट जाता था। इसलिए, हमें गर्मियों के दौरान वास्तव में कड़ी मेहनत करनी पड़ी ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हमारे पास लम्बी और कठोर सर्दियों से बचने के लिए पर्याप्त अनाज हो। गर्मी के मौसम में भीषण काम के बाद, उत्सव विशेष रूप से मधुर लगते थे। उस समय हमारी फसल जौ, आलू, काले मटर और चीना/ चीज़े (स्थानीय नाम) होती थी। थुकपा (सूप) और सालमा (स्थानीय रोटी) के लिए आटा बनाने के लिए चीना और जौ का उपयोग किया जाता था। उत्सव के दौरान हम विभिन्न व्यंजन जैसे तोलोपा, चुलीपान्टिंग (मीठी खुबानी) बनाते थे। सांप्रदायिक रूप से तैयार करने और खाने से इन व्यंजनों के स्वाद में और भी इजाफा होता था।

 

जौ, स्थानीय शराब जैसे छाँग और अरक बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था और आज भी किया जाता है । अब कोई भी चीना नहीं उगाता। बीज भी बहुत मुश्किल से मिलते हैं। यह पूरी तरह से गायब हो गया है। काला मटर और जौ की खेती भी कम हो गई है और मुख्य रूप से इसकी जगह हरे मटर, सेब, फूलगोभी इत्यादि जैसी नकदी फसलों ने ले ली है। बाहरी दुनिया से जुड़ाव बढ़ने के कारण, गेहूं और चावल, जिनका मेरे समय में बस ज़िक्र होता था, अब मुख्य भोजन बन गए हैं। सलमा, तोलोपा, चुलिपेंटिंग आदि जो सभी आयु वर्ग के पसंदीदा थे, अब शायद ही बनाए जाते हैं। हमारी पीढ़ी के साथ-साथ अधिकांश पारंपरिक व्यंजन भी लुप्त होते जा रहे हैं ।

मुझे उम्मीद है कि हम धीरे-धीरे अपनी पारंपरिक फसलों की ओर लौटेंगे, क्योंकि वे हमारी घाटी में सबसे अच्छी तरह से विकसित होती हैं, बेहतर आर्थिक लाभ के लिए खुबानी पर ध्यान केंद्रित किया जा सकता है। इस तरह हम कृषि से सतत विकास सुनिश्चित करने में सक्षम हो सकते हैं ।

Green peas.jpeg

फोटो साभार: पनमा ग्यत्सो

लेखक के बारे में

Prithvi.jpeg

पृथ्वी सिंह

पृथ्वी सिंह हांगो गांव में किसान हैं। वह वर्तमान में गांव के मुखिया (नंबरदार) भी हैं। इस लेख को उन्होंने अपने पोते पनामा के माध्यम से व्हाट्सएप वॉयस नोट्स के माध्यम से साझा किया है।

Panma.jpeg

पनमा ग्यात्सो

पनमा ग्यात्सो हांगो में एक किसान है जो समाज सेवा करते भी हैं। वह वन्यजीव संरक्षण में भी बहुत सक्रिय भूमिका निभाते हैं और वन्य जीवों की वजह से नुकसान होने से उन्होंने कई परिवारों को वन विभाग से मुआवजे लेने में मदद की है।

bottom of page